Hi, I am a creative graphic designer, blogger and SEO expert from India.

My Websites

link 1
link 2

प्रदेश में नए टैक्स लगाने की तैयारी में सुक्खू सरकार. मुख्यमंत्री ने अफसरों से संसाधन जुटाने पर की चर्चा

 हिमाचल प्रदेश में सरकार के सामने संसाधन बढ़ाना बड़ी चुनौती है। ऐसा कोई विकल्प नहीं जो आम जनता पर भारी न पड़े। संसाधनों को जुटाने के लिए सरकार इस तरह के विकल्पों पर लगातार मंथन कर रही है। रविवार को भी ऐसा मंथन राज्य सचिवालय में हुआ है। रविवार के दिन भी सरकार ने आर्थिकी को मजबूत करने पर चर्चा की।

प्रदेश में नए टैक्स लगाने की तैयारी में सुक्खू सरकार. मुख्यमंत्री ने अफसरों से संसाधन जुटाने पर की चर्चा

सूत्रों के अनुसार राज्य कर एवं आबकारी विभाग के अफसरों के साथ मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने बैठक की। इन अधिकारियों से पूछा गया था कि आखिर किस तरह से आमदनी को बढ़ाया जाए, इसके विकल्प तलाश कर लाएं। इस पर अफसरशाही ने कुछ विकल्प ढूंढे हैं। 

सूत्रों की मानें तो सचिवालय में दोपहर बाद इस संदर्भ में चर्चा हुई। इस मंथन बैठक में नए टैक्स लगाए जाने को लेकर चर्चा की गई। बताया जाता है कि एल्युमिनियम से बने उत्पादों पर टैक्स लगाया जा सकता है। इन पर एडिशनल गुड्स टैक्स लगाया जा सकता है जैसा आयरन और स्टील पर लगता है। आयरन और स्टील पर सरकार एडिशनल गुड्स टैक्स वसूल करती है। 

ऐसे ही कुछ अन्य उत्पादों पर भी इस तरह के एडिशनल टैक्स लगाने को लेकर चर्चा की गई है। इसके अलावा बताया यह भी जा रहा है कि मिनरल वाटर पर सटेंन गुड्स कैरिड बाई रोड टैक्स को रिव्यू किया गया। इसमें संशोधन कर सरकार इसमें लगने वाले टैक्स को बढ़ा सकती है, जोकि दूसरे राज्यों में भी ज्यादा है। 

पड़ोसी राज्य पंजाब में मिनरल वाटर महंगा है, लिहाजा यहां पर सरकार टैक्स में बढ़ोतरी करके इसे महंगा कर सकती है। साथ ही साथ प्रदेश में टोल टैक्स और शराब की नीति को लेकर भी चर्चा की गई है। हालांकि आगे पॉलिसी में इसे लेकर बड़े बदलाव यहां पर किए जाएंगे और हो सकता है कि प्रदेश में शराब को सरकार कुछ महंगा भी कर दे।

टोल टैक्स की भी बढ़ सकती हैं दरें

टोल टैक्स की दरों में भी बढ़ोतरी हो सकती है। शराब के ठेके नीलाम किए जाएंगे और नीलामी महंगी दरों पर होगी। इस साल राज्य कर एवं आबकारी विभाग के सामने शराब से 2100 करोड़ रुपये की इनकम का टार्गेट है, जिस पर तेजी के साथ यहां काम किया जा रहा है। इस तरह के कई दूसरे विकल्पों पर भी विचार किया गया है, जिन मामलों में अभी निर्णय लिए जा सकते है और सीएम ने ये सब तुरंत करने के लिए कहा है।

पेट्रोल पर भी बढ़ सकता है वैट 

सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में प्रदेश में पेट्रोल पर भी वैट बढ़ाया जा सकता है। पेट्रो पदार्थों में वैट बढ़ाने से सरकार की आमदनी में अच्छा-खासा इजाफा होता है। हाल ही में डीजल पर वैट बढ़ाया गया है, जिससे डीजल 3 रुपये तक महंगा हुआ है। इसके साथ यदि पेट्रोल पर भी वैट बढ़ाया गया तो मार आम आदमी पर पड़ेगी।